मंगलवार, 2 मार्च 2021

कैदी यादों के

कैदी.. हाँ हम कैदी ही तो हैं किसी ना किसी की यादों के, कुछ टूटी तो कुछ छूटी उम्मीदों के कुछ आधे -अधूरे ख्वाबों के, कुछ झूठे रह गये वादों के...
हम सब कैद से निकलने का भरसक प्रयास कर रहे हैं लेकिन क्या हम कभी इस कैद से आजाद हो पायेगे? 
 बड़ा मुश्किल हो जाता है यादों के कैद से निकलना और जीवन में बार ऐसे पल आते हैं जब हम ना चाहकर भी यादों के भँवर में फँसकर रह जाते हैं। 
पर मुझे लगता है कभी -कभी यादों का कैदी होना बुरा नहीं होता... क्योंकि यही हमारे चेहरे पर मुस्कान ले आती है.. 

2 टिप्‍पणियां:

मरती इंसानियत

                                       चित्र -गूगल से साआभार "डॉक्टर मेरी मम्मी की हालत बहुत खराब है प्लीज एडमिट कर लीजिए&q...