सोमवार, 17 मई 2021

अर्जुन की मनोदशा

                        चित्र गूगल से साआभार 

कविता लिखने में मेरा हाथ अभी काफी तंग है। 
इस छोटी सी कविता के माध्यम से मैंनें महाभारत के युध्द के समय कुरूक्षेत्र में खड़े अर्जुन के मन में व्याप्त संशय और गोविन्द द्वारा उसके निदान को दिखाने की छोटी सी कोशिश की है। 

ये माधव तुम ही बतालाओ
कैसे ये कर जाऊँ मैं
कैसे इन पर बाण चला दूँ 
जिनका ही गुण गाऊँ मैं 
कैसै लड़ जाऊँ इन सबसे 
इन सबका मैं प्यारा हूँ
जिन हाथों ने चलना सिखाया 
उनका मैं हत्यारा बनूँ
इतनी सारी हत्याओं का
 बोझ मैं कैसे उठाऊँगा 
जीवन दूभर हो जायेगा मेरा 
अगर इस युध्द में जीवित रह जाऊँगा
हे! माधव इस विकट परिस्थिति में
तुम ही राह दिखाओ
मेरे हाथ उठेगे ना 
अब तुम ही इसे सुलझाओ
उठो पार्थ तुम शस्त्र उठा लो 
इन सब पर तुम वार करो 
अपनी करनी भुगत रहें सब 
इनका तुम संहार करो 
माना बहुत कठिन है ये 
पर तुम अभी ये काम करो 
जिन कन्धों पर कभी खेले थे
उन्हीं को लहूलुहान करो
धर्म से बन्धे लोग
अधर्म की राह पर चल रहें हैं 
उचित अनुचित जानकर भी 
सब आँख मूँदकर चल रहें
इनकी चुप्पी के कारण ही 
इतना बड़ा अधर्म हुआ 
सब मूक खड़े थे सभा में 
जब द्रौपदी का चीर हरण हुआ 
दुर्योधन से ज्यादा तो ये सब ही दोषी हैं
इनके संरक्षण के कारण ही आज स्थिति ऐसी है
सुनो पार्थ अब धर्म की खातिर 
तुमको शस्त्र उठाना होगा 
मोहपाश को छोड़कर तुमको 
अपना कर्तव्य निभाना होगा 
अपने गांडीव से तुमको सबको मार गिराना होगा...

19 टिप्‍पणियां:

  1. इनकी चुप्पी के कारण ही
    इतना बड़ा अधर्म हुआ
    सब मूक खड़े थे सभा में
    जब द्रौपदी का चीर हरण हुआ
    दुर्योधन से ज्यादा तो ये सब ही दोषी हैं
    इनके संरक्षण के कारण ही आज स्थिति ऐसी है
    सुनो पार्थ अब धर्म की खातिर
    तुमको शस्त्र उठाना होगा
    मोहपाश को छोड़कर तुमको
    अपना कर्तव्य निभाना होगा ----वाह प्रीति जी...बहुत की अच्छे से लिखा है आपने उस प्रमुख समय को...जब अर्जुन का आंर्तनाद चीख रहा था, जब माधव सब जानते थे, जब सब पहले से तय था, जब कान्हा ने उन्हें उस ज्ञान से अवगत करवाया जिसकी आज सर्वाधिक आवश्यकता है...बहुत खूब और खूब बधाई

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद सर इतनी अच्छी समीक्षा के लिए

      हटाएं
  2. विलक्षण और भव्य लेखन। साधुवाद प्रीति जी।

    जवाब देंहटाएं
  3. सुन्दर भवाभिव्यक्ति ।

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत ही उमदा और सटीक रचना!

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर और प्रभावी रचना
    वाह

    जवाब देंहटाएं
  6. This is really fantastic website list and I have bookmark you site to come again and again. Thank you so much for sharing this with us
    first kiss quotes
    spiritual quotes
    shadow quotes
    feeling lonely quotes
    rain quotes
    selfish people quotes
    impress girl

    जवाब देंहटाएं
  7. सुंदर अति सुंदर भाव ।

    जवाब देंहटाएं

श्री कृष्ण जन्माष्टमी की शुभकामानयें

कदम्ब के वृक्ष को देख के सोचा   कितना मनमोहक है ये कृष्ण इसी फर झूलते होगें इसके तले ही घूमते होगें  गइया चराने जाते होगें  अनेक...