शनिवार, 28 अगस्त 2021

बेड़ियाँ

             
            चित्र -गूगल साआभार 

मैंनें कभी कल्पना भी नहीं की थी कि अपने जीवन में ऐसा समय देखने को मिलेगा कि एक आतंकवादी संगठन किसी देश पर कब्जा भी कर सकता है लेकिन बिना कल्पना के ये हकीकत देखने को मिल गयी। अब गलती अमेरिका की है या अफगानिस्तान तान के बुजदिल सेना और वहाँ की सरकार कहकर क्या ही फायदा होगा क्योंकि भुगत तो वहाँ की आवाम रही है। 
जिस आसानी ने तालिबान ने अफगानिस्तान पर कब्जा किया वह मुझे तो काफी चौकाने वाला लगा। अगर अमेरिका पीछे हट भी गया था तो भी आखिर तक अफगानिस्तान को अपनी देश और अपने लोगों की रक्षा के लिए लड़ना था यू भगाना और आत्मसमर्पण तो नहीं करना था.... क्योंकि इस कायरना हरकत से भी जनता जितना भुगत रही है युध्द होता तो श्याद कम ही भुगतती। अगर लड़ने पर हालत इससे ज्यादा खराब हो भी जाते तो भी मन के एक कोने में उनके ये तो रहता कि हमारी आर्मी और सरकार ने हमें बचाने की भरपूर कोशिश की। इस स्थिति में संकट तो पूरी जनता पर ही है लेकिन महिलाओं के लिए तालिबान के साये में रहना नरक भुगतना है। महिलाओं के लिए तो अपनी इच्छा से साँस लेना भी हराम हो जायेगा। तालिबान महिलाओं को इन्सान नहीं समान समझता है तो उनकी स्थिति तो बद से बदतर ही हो जायेगी। 


अफगानिस्तान की जानता जनती है कि गुलामी में जीना क्या होता है,, अंताकवाद किस तरह से सब का जीवन  बर्बाद कर देता है...क्योंकि इसके पहले भी वो तालिबान की क्रूरता सह चुके हैं इसीलिए आज अपना देश तक छोड़कर जाने को आतुर हैं। अब बेचारे कहाँ जायेगे इनको खुद नहीं पता बस अफगानिस्तान से निकलने के हर सम्भव प्रयास में लगे हैं क्योंकि गुलामी किसी को रास नहीं आती। अब अपने और अपनों को अंताकवाद के साये से दूर रखने की भरपूर कोशिश में ना जाने कितने मारे जायेंगें... क्योंकि तालिबान इतनी आसानी से किसी को देश छोड़ने देगा ये असम्भव है.... 


अराजकता का एक दौर चल रहा था 
इन्सान हर पल खौफ के साये में जी रहा है
वतन छोड़कर भागने की होड सी लगी है
तालिबान से बचने की दौड़ सी लगी है
कितने बच पायेगे ये तो ईश्वर ही जानता है
साँसे चलती रही तब तो संकट ही है
अब तो थम जाये तो ही कुछ फायदा है 
यू मर -मरकर जीना किसे रास आता है
आतंकवाद और बन्दूकों के बीच 
जीना किसे रास आता है
समझ नहीं आता इन्होंनें हार क्यों मान ली
अन्त तक लड़कर अपने देश को बचाना था इन्हें 
अपने ही बीच छुपे गद्दारों को निपटाना था इन्हें 
अब इनकी गलती का परिणाम पूरी आवाम भुगतेगी 
खुले आसामन में उड़ने की चाहत रखने वालों के 
पर अब पर कुतरे जायेगे 
कदम -कदम चलने पर अब लोग भी थर्रायेगें
ये कैसा कठिन समय आया है अफगानिस्तान पर 
हावी हो गया अतंकवाद चन्द दिनों के विराम पर..... 

14 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना सोमवार 30 ,अगस्त 2021 को साझा की गई है ,
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    सादर
    धन्यवाद।

    संगीता स्वरूप

    जवाब देंहटाएं
  2. अधर्म का साम्राज्य सारे विश्व पर छा रहा है.. इतिहास में दर्ज होगा सभी का कायरता या चुप्पी

    सामायिक लेखन.. साधुवाद

    जवाब देंहटाएं
  3. न्यूज देख कर दिल दुखता है तो बस प्रार्थना करते हैं सब ठीक हो प्रभु 🙏

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत ही कठिन समय है ... हर तरफ भय ही भय व्याप्त है।

    जवाब देंहटाएं
  5. अफगान की गुलामी एवं वहां के आवाम की परेशानी को व्यक्त करती सार्थक कृति...।
    सही कहा भागना उचित नहीं युद्ध करते हुए मर जाते तो क ई बेहतर होता।

    जवाब देंहटाएं
  6. अराजकता का एक दौर चल रहा था
    इन्सान हर पल खौफ के साये में जी रहा है
    वतन छोड़कर भागने की होड सी लगी है
    तालिबान से बचने की दौड़ सी लगी है

    जवाब देंहटाएं

श्री कृष्ण जन्माष्टमी की शुभकामानयें

कदम्ब के वृक्ष को देख के सोचा   कितना मनमोहक है ये कृष्ण इसी फर झूलते होगें इसके तले ही घूमते होगें  गइया चराने जाते होगें  अनेक...